ऐ इश्क दर्द
Created by

माना की तेरे दर पे हम खुद चल कर आए थे, ऐ इश्क दर्द, दर्द और बस दर्द...ये कहाँ की मेहमान नवाजी ह

This Post has
2043 views
0 comment
© 2021 - हिंदीशायरी.com