तेरे आने की क्या उमीद मगर कैसे कह दूँ कि इंतिज़ार नहीं। फ़िराक़ गोरखपुरी
Created by


Tags:
This Post has
1715 views
0 comment
© 2021 - हिंदीशायरी.com